11


पिछली पोस्ट में अब तक हम शिलॉंग स्थित एक बड़े चर्च कैथेड्रल मेरी देख चुके थे। इसके बाद दो पड़ाव और बाकि थे- एक था शहर के बीचों बीच स्थित लेडी ह्याद्री पार्क तथा दूसरा एशिया का एक प्राकृतिक गोल्फ कोर्स।
दिल के आकार का... 
मेघालय के पिछले पोस्ट:


लेडी ह्याद्री पार्क पर्यटकों के साथ-साथ स्थानीय लोगों के लिए भी एक बहुत बड़ा आकर्षण है, जहाँ खासकर शाम के वक़्त काफी भीड़-भाड़ होती है। यहाँ तरह-तरह के पौधे और फूलों के बगीचे भरे पड़े हैं। बच्चों खेलने के लिए भी यहाँ बहुत सारे साधन मौजूद हैं। अंदर एक छोटा सा चिड़ियाघर भी है जहाँ जीव-जंतुओं किस्में हैं। हलक-हलकी चलती हवाओं के बीच यहाँ बैठकर आप घंटों आराम से बिता सकते हैं। मुझे दिल आकार के बने एक छोटे से जलाशय ने बड़ा आकर्षित किया। कुल मिलाकर यह पार्क जापानी शैली का बना हुआ है और सबसे बड़ी बात यह की यहाँ प्रवेश के लिए कोई शुल्क भी नहीं लगता, बिल्कुल निशुल्क ही है ! पूर्वोत्तर भारत की जबरदस्त हरियाली का यह एक बेजोड़ नमूना है!

                        आगे चलते हैं- शिलॉंग शहर भ्रमण में आज के अंतिम आकर्षण शिलोंग गोल्फ कोर्स की ओर। भारत के सबसे बड़े गोल्फ कोर्स में से एक है यह। सबसे बड़ी बात यह है की यह एशिया के कुछ गिने-चुने प्राकृतिक रूप से बने गोल्फ कोर्सों में से एक है। इसे पूरब का ग्लेनिगल (Gleaneagles of the East) भी कहा जाता है, क्योकि यह ब्रिटेन के ग्लेनिगल के गोल्फ कोर्स के मिलता-जुलता है। सन 1898 में इसे ब्रिटिश अफसरों द्वारा बनवाया गया था, तब इसमें कुल नौ गोल थे, अभी अठारह हैं। बुरांश के फूलों से भरा हुआ यह बगीचा एकदम मन प्रसन्न कर देती है। चीड़ के पेड़ों के बीच से सूर्यास्त की किरणें बेहद अद्भुत नजारा पैदा करती है। अगर आप गोल्फ के शौक़ीन नहीं भी हों, तो भी यहाँ की फ़िज़ा आपको मदहोश कर देगी। यहाँ भी प्रवेश के लिए कोई फीस नहीं देना पड़ता, किसी तरह की कोई चहारदीवारी भी नहीं है और आम लोगों के लिए हमेशा ही खुला रहता है। 
   खैर, शिलॉंग के आज का लोकल भ्रमण तो अब यहीं खत्म होता है। आपको ये पोस्ट कुछ छोटी जरूर लगी होगी, पर अगले एक और महत्वपूर्ण पोस्ट में मैं आपको ले चलूँगा शिलॉंग ही नहीं, बल्कि पूर्वोत्तर भारत के सबसे बड़े संग्रहालयों में से एक डॉन बोस्को म्यूजियम। वैसे यह एक निजी संस्था के द्वारा चलाया जाता है, फिर भी यहाँ पूरे उत्तर-पूर्व भारत को समझने के लिए अनगिनत सामग्रियाँ मौजूद है। 
तब तक आप लेडी ह्याद्री पार्क तथा गोल्फ कोर्स का आनंद लीजिये:---
लेडी ह्याद्री पार्क 

















शिलांग गोल्फ कोर्स 







मेघालय के पिछले पोस्ट:


इस हिंदी यात्रा ब्लॉग की ताजा-तरीन नियमित पोस्ट के लिए फेसबुक के TRAVEL WITH RD पेज को अवश्य लाइक करें या ट्विटर पर  RD Prajapati  फॉलो करें साथ ही मेरे नए यूंट्यूब चैनल  YouTube.com/TravelWithRD भी सब्सक्राइब कर लें। 

Post a Comment Blogger

  1. बेहतरीन और लाजवाब , बहुत अच्छा लगा पढ़कर, लिखते रहिये
    जहाँ हम जा नहीं सके हैं या जा नहीं सकते वहां के बारे पढ़कर ही खुश हो लेते हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद अभयानंद जी

      Delete
    2. धन्यवाद जी

      Delete
  2. बढ़िया आरडी भाई ! मजा आ रहा है मेघालय को देखने में

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद्

      Delete
  3. Hey keep posting such good and meaningful articles.

    ReplyDelete
  4. I can see that you possess a degree of expertise on this subject, I would like to hear much more from you on this subject matter. I have bookmarked this page and will return soon to hear additional about it.

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छे रद भाई ...दिल खुश हो गया आपकी यात्रा वर्तान्त पढ़कर ..

    ReplyDelete

 
Top