नीलगिरि माउंटेन रेलवे, ऊटी (Nilgiri Mountain Railway: Ooty to Coonoor)

चल छैयां छैयां छैयां….. देखा ही होगा आपने कभी न कभी इस गाने के वीडियो को। एक छुक छुक करती ट्रेन पर इसकी थिरकाने वाली धुन कुछ बरसों पहले सभी के जुबाँ पर सुनाई पड़ती थी। जी हाँ मैं बात कर रहा हूँ ऊटी के नीलगिरि माउंटेन रेलवे या यूँ कहे ऊटी के टॉय ट्रेन की, जो ऊटी से कन्नूर होते हुए मेट्टुपलायम तक सैकड़ों वलयों, पुलों और गुफाओं से गुजरती हुई पहुँचती है। कन्नूर जाने के क्रम में मैंने भी इसी ऐतिहासिक टॉय ट्रेन वाले मार्ग को ही चुना।
उदगमंडलम रेलवे स्टेशन
 

  1. 2004 में आये सुनामी के बाद पुनर्जीवित एक एकांत तट में कुछ पल (Chotavilai Beach, Tamilnadu)
  2. भारत का अंतिम छोर और वो टापूनुमा विवेकानंद रॉक  (Kanyakumari, India)
  3. नीलगिरि माउंटेन रेलवे, ऊटी  (Nilgiri Mountain Railway: Ooty to Coonoor)
  4. ये हंसी वादियाँ आ गए हम कहाँ- ऊटी (Romance of Ooty)
Also Read:  ये हंसी वादियाँ आ गए हम कहाँ- ऊटी (Romance of Ooty)

इस ऐतिहासिक ट्रेन की शुरुआत सन 1908 अंग्रेजों द्वारा की गई, इनमे से कुछ तो आज भी भाप इंजन से ही चल रहे हैं। टॉय ट्रेन का सफर करने के लिए या तो आप ऑनलाइन IRCTC से टिकट बुक कर सकते हैं या फिर काउंटर पर ही जनरल टिकट ले सकते हैं। ऑनलाइन बुक कर लेने पर सीट लेने में दिक्कत नहीं होगी।
     सुबह सुबह नौ बजे का वक़्त था और उदगमंडलम स्टेशन पर सैलानियों की लाइन लगी पड़ी थी। कुछ ही देर में ट्रेन का आगमन हुआ और सभी चहककर नीलगिरि के इस अनूठे सौंदर्य का दीदार करने के लिए ट्रेन में दाखिल हुए। कहने को तो यह टॉय ट्रेन थी, पर अंदर काफी जगह थी। ज्यों ही ट्रेन की चार-पाँच बोगियों ने इस पर्वतीय संकीर्ण पटरियों पर छुक-छुक कर दौड़ना शुरू किया, सभी सहयात्रीगण खिड़की से अपने अपने कैमरों में तस्वीरें लेने की जुगत में पड़ गए। कही तीखा मोड़ मिलता तो कहीं गहरी खाई।

 

कही दोनों ओर से ऊँचे ऊँचे घने वृक्षों की कतार। अचानक एक गुफा से ट्रेन गुजरी और अँधेरा छा गया। फेर्नहिल, केटी, अरावांकडू और वेलिंग्टन से होते हुए 15 किमी आधे घंटे में तय कर अंत में आया कन्नूर स्टेशन। भारतीय रेलवे का यह अनूठा रूप जरूर एक बार सभी को देखना चाहिए।

 

                                     कन्नूर में जिन जगहों का हमने अवलोकन किया उनमें  में भी अनेक दर्शनीय स्थल मौजूद हैं जिनमे मुख्य हैं सिम्स पार्क, डॉलफिन नोज, संत कैथरीन फाल्स और लैम्ब्स रॉक।

 

 

 

 सिम्स पार्क में कुछ पल बगीचों में बिताने के बाद मैंने डॉलफिन नोज की ओर रुख किया।  डॉलफिन नोज़ एक ऐसी जगह है जहाँ का सन्नाटा दिन में भी रात का एहसास करा देता है और ये जगह काफी शांतिदायक है। डॉलफिन के नाक की आकृति के कारण ही इसका ऐसा नाम पड़ा है। आगे आपको मिलेंगे लैम्ब्स रॉक और कैथरीन फाल्स। लैम्ब्स रॉक से कन्नूर का समूचा नजारा और कोयंबटूर के मैदानी हिस्से दिखाई पड़ते हैं। 

 

 

 

 

 

 

 

 

इस हिंदी यात्रा ब्लॉग की ताजा-तरीन नियमित पोस्ट के लिए फेसबुक के TRAVEL AND MASTI
 पेज को अवश्य लाइक करें या ट्विटर पर  RD Prajapati  फॉलो करें।

Also Read:  भारत का अंतिम छोर और वो टापूनुमा विवेकानंद रॉक (Kanyakumari, India)

इसकी पिछली कड़ियाँ यहाँ पढ़ें 
ये हंसी वादियाँ आ गए हम कहाँ (Romance of Ooty) 

इस यात्रा ब्लॉग में आपके सुझावों का हमेशा स्वागत है। अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए मुझे [email protected] पर भी संपर्क कर सकते हैं। हमें आपका इंतज़ार रहेगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *