पांचघाघ फाल्स: झारखण्ड का सबसे सुरक्षित प्रपात (Panchghagh Falls)

Featured post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

आपने झारखण्ड की राजधानी रांची के आसपास के विभिन्न झरनों के बारे में सुना होगा। इस राज्य में ऐसे कई छोटे झरने हैं, और नियमित रूप से पर्यटकों द्वारा देखे जाते हैं। उनमें से कुछ हुन्डरु जलप्रपात, दसम जलप्रपात, जोन्हा जलप्रपात, हिरणी जलप्रपात आदि हैं। कुछ जलप्रपात हादसों की संख्या के लिए कुख्यात भी हैं। उदाहरण के लिए, कई पर्यटक दसम फॉल में गिरकर अपनी जान गंवा चुके हैं, जो प्रपात के ऊपर जाकर फोटो लेने या नजारा देखने की कोशिश कर रहे थे। हालांकि पर्यटकों को हमेशा ऐसा नहीं करने की सख्त चेतावनी दी जाती है, लेकिन फिर भी वे इस छोटे से आनंद के लिए जोखिम उठाते हैं।

पंचघाघ फाल्स, खूंटी, झारखण्ड

मैंने हाल ही में रांची से 50 किमी की दूरी पर और खूंटी से सिर्फ 8 किमी की दूरी पर स्थित ‘पंचघाघ’ नामक एक झरने का दौरा किया। यह फॉल न तो हुंडरू या दसम की तरह ऊंचा है, और न ही नीचे गिरने वाले पानी को देखने के लिए लम्बी-लम्बी सीढ़ियों से नीचे उतरना पड़ता है.

मैं अक्सर इस नामकरण ‘पंचघाघ’ के बारे में सोचता हूँ, जिसका अर्थ पाँच धाराएँ हैं। कहा जाता है कि यहाँ कांची नदी की पांच धाराएँ हैं, लेकिन वर्तमान समय में, हमें केवल एक मुख्य धारा मिली और कुछ नहीं। यह सर्दियों में शुष्क मौसम के कारण हो सकता है, लेकिन बारिश के मौसम में पांच धाराओं को भी देखा जा सकता है।

Also Read:  Top 4 waterfalls of Jharkhand- Hundru, Dassam, Hirni and Jonha

आखिर पंचघाघ इतना सुरक्षित क्यों है?

दरअसल, पंचघाघ जलप्रपात की ऊंचाई बहुत कम है और यहां तक कि कभी-कभी यह झरने जैसा नहीं दिखता है। पानी धीरे-धीरे चट्टानों के ऊपर से बहता है और अंत में पहाड़ियों के तल तक पहुंच जाता है। इसीलिए इस फॉल को अन्य झरनों की तुलना में ज्यादा सुरक्षित माना जाता है, क्योंकि यहां किसी भी तरह का खतरा नहीं है या बहुत कम खतरा है.

पंचघाघ फाल्स कैसे पहुंचे?

आप रांची से खूंटी के लिए बस ले सकते हैं और यह प्रपात बस स्टॉप से सिर्फ 8 किमी दूर है, आप बस स्टॉप से किसी भी ऑटो रिक्शा या टैक्सी को किराए पर ले सकते हैं। यदि आप जमशेदपुर से हैं, तो आप खूंटी के लिए सीधी बस भी ले सकते हैं और फॉल्स पर जा सकते हैं। यदि आपके पास अपना वाहन है, तो आप किसी भी मार्ग से यात्रा कर सकते हैं। याद रहे कि पंचघाघ फाल्स जमशेदपुर से 130 किमी और रांची से 50 किमी दूर है।

Also Read:  नेतरहाट: छोटानागपुर की रानी (Netarhat: The Queen of Chhotanagpur)

पंचघाघ में प्रवेश टिकट

प्रवेश शुल्क के रूप में 7 रुपये प्रति व्यक्ति का लिया जाता है और बाइक के लिए 12 रुपये का शुल्क अलग से लिया जाता है। इस फंड का उपयोग झारखंड पर्यटन विभाग द्वारा क्षेत्र के विकास के लिए किया जाता है, लेकिन अभी भी झारखंड में बहुत कुछ विकसित करना है।

जैसा कि आप पहले से ही जानते हैं कि झारखंड पर्यटन को अभी भी अन्य भारतीय राज्यों की तरह विकसित होना बाकी है। हर पर्यटक क्षेत्र में, पहुंचने और ठहरने के लिए सुविधाजनक तरीके और सुविधाएं होनी चाहिए। लेकिन झारखंड अभी इस सन्दर्भ में पिछड़ा ही है। राज्य के सभी प्रमुख शहरों से न तो कोई भी पर्यटन स्थल अच्छी तरह से सीधे जुड़ा हुआ है और न ही कोई सरकारी बस या ट्रेन सीधी इनकी ओर आती है. सार्वजनिक परिवहन में पर्यटकों को तीन-चार बार गाड़ियाँ बदल कर यहाँ आना पड़ता है, मजा सिर्फ उनके लिए ही है जिनके पाद निजी वहां हो.

Also Read:  Hills and Valleys of Jharkhand- Parasnath, Netarhat, Dalma and Kiriburu.

इसी तरह से पंचघाघ पर भी यही हालत है। कुछ हल्का-फुल्का नमकीन और खाने-पीने की सामग्री बेचने वाले केवल छोटे स्ट्रीट हॉकर हैं। कोई बड़ा रेस्टोरेंट नहीं है। अगर कोई रात भर यहां रहना चाहता है, तो वह निराश होगा। मुझे केवल एक व्यू पॉइंट मिला जो पर्यटन विभाग द्वारा बनाया गया था।

पंचघाघ की सबसे अच्छी बात क्या थी?

यह झरना हुंडरू या दसम फॉल्स की तरह ऊंचा नहीं है, लेकिन फॉल्स के आसपास का विस्तृत क्षेत्र बहुत ही आकर्षक है जो एक उत्कृष्ट पिकनिक स्थल के रूप में दिखाई देता है। इन जंगलों में साल (सखुआ), बांस, और पलास के जंगल हैं। जंगल मुख्य जलधारा के आसपास 1 से 2 किमी क्षेत्र में फैला हुआ है और लोग वहां खाना बनाते हैं और खाते हैं। इतना व्यापक जंगल क्षेत्र झारखंड के अन्य प्रपातों के आस-पास उपलब्ध नहीं है।

आप हमारे इस यात्रा का विडियो यहाँ देख सकते हैं.

Like Facebook Page: facebook.com/travelwithrd

Follow on Twitter: twitter.com/travelwithrd

Subscribe to my YouTube channel: YouTube.com/TravelWithRD.

email me at: travelwithrd@gmail.com