Skip to main content

Posts

Showing posts from May, 2016

भारत की सांस्कृतिक राजधानी की एक झलक (Glimpses of the City of Joy: Kolkata)

कोलकाता यानि की भारत की भूतपूर्व राजधानी और वर्त्तमान में जिसे सांस्कृतिक राजधानी का भी दर्जा दिया जाता है, कला-साहित्य के क्षेत्र मे भी बिलकुल अव्वल और अनेक ऐतिहासिक घटनाओ का गवाह रहा है। आईये इसकी कुछ झलकों से रू-ब-रू होते हैं। हावड़ा ब्रिज: पहचान कोलकाता की जिस चीज से इस शहर की पहचान होती है वो है सुप्रसिद्ध हावड़ा ब्रिज या रविन्द्र सेतु । अंग्रेजो के ज़माने में बिना नट-बोल्ट का बना हुगली नदी के ऊपर लटकता हुआ यह कोलकाता का प्रवेश द्वार ही है, जिसपर किसी की भी पहली नजर पड़ते ही दंग रह जाना लाजिमी है। रोजाना लाखों वाहनों को ढोता हुआ यह इंजीनियरिंग का एक अद्भुत नमूना है। सबसे दिलचस्प तथ्य यह है की यहाँ तक पहुँचने के लिए किसी से पूछने की शायद ही कोई जरुरत पड़ेगी।      ऐतिहासिक स्थलों की फेहरिस्त में अगला नाम आता है विक्टोरिया मेमोरियल का। संगमरमर से बना यह एक भव्य ईमारत है जिसे ब्रिटेन की महारानी विक्टोरिया की याद में बनवाया गया था। यहाँ प्रवेश के लिए टिकट का प्रबंध है। महल के अंदर एक ऊँची सी विक्टोरिया की प्रतिमा खड़ी है,   और साथ ही इस महल के कमरों को वर्त्तमान में संग्रहाल

कुम्भरार: पाटलिपुत्र के भग्नावशेष (Kumbhrar: The Ruins of Patliputra)

पाटलिपुत्र या आज का पटना अपने अन्दर अनेक एतिहासिक विरासतों को समेटा हुआ है। किसी काल में मौर्य शासकों की राजधानी होने के कारण सदा से ही यह शहर एतिहासिक चर्चा एवं अध्ययन का विषय रहा है। लेकिन क्या आपको पता है की इस शहर के इतिहास के बारे हमें इतनी सारी जानकारियां कहाँ से मिली है? आखिर वो कौन सी जगह जिसके गर्भ में प्रभावशाली मगध साम्राज्य के अवशेष दब गए और इतिहास बन गए? और दो-तीन हजार वर्षों बाद भी हमारी उत्सुकता और शोध का विषय बने हुए हैं? कुम्भरार पार्क, पटना                                  प्राचीन काल में पाटलिपुत्र को  पाटलिग्राम, पाटलीपुर, कुसुमपुर, पुष्पपुर, कुसुम्ध्वज  आदि नामों से विभूषित किया जाता रहा है। छठी सदी पूर्व यह मात्र एक गाँव के रूप में था जिसे निर्वाण से पहले गौतम बुद्ध ने एक निर्माणाधीन दुर्ग के रूप में देखा था। बोध गया: एक एतिहासिक विरासत (Bodh Gaya, Bihar) दशरथ मांझी: पर्वत से भी ऊँचे एक पुरुष की कहानी (Dashrath Manjhi: The Mountain Man) मगध की पहली राजधानी- राजगीर से कुछ पन्ने और स्वर्ण भंडार का रहस्य (Rajgir, Bihar) नालंदा विश्वविद्यालय के भग्नावश

नालंदा विश्वविद्यालय के भग्नावशेष: एक स्वर्णिम अतीत (Ruins of Nalanda University)

विश्वप्रसिद्ध नालंदा विश्वविद्यालय के बारे तो आपने सुना ही होगा। आज से लगभग पंद्रह सौ साल पहले यह पूरी दुनिया के लिए उच्च शिक्षा का सिरमौर था, जहाँ सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि चीन, जापान, बर्मा, कोरिया, तिब्बत, फारस आदि देशों से भी विद्यार्थी पढने के लिए आते थे।  इस महान विश्वविद्यालय के भग्नावशेष इसके वैभव का अहसास करा देते हैं। आईये जानते हैं - नालंदा विश्वविद्यालय के स्वर्णिम अतीत के बारे !    बोध गया: एक एतिहासिक विरासत (Bodh Gaya, Bihar) दशरथ मांझी: पर्वत से भी ऊँचे एक पुरुष की कहानी (Dashrath Manjhi: The Mountain Man) मगध की पहली राजधानी- राजगीर से कुछ पन्ने और स्वर्ण भंडार का रहस्य (Rajgir, Bihar) नालंदा विश्वविद्यालय के भग्नावशेष: एक स्वर्णिम अतीत (Ruins of Nalanda University) कुम्भरार: पाटलिपुत्र के भग्नावशेष (Kumbhrar: The Ruins of Patliputra)                                                     पटना से लगभग 90 किलोमीटर, गया से 85 किमी और राजगीर से 12 किमी दूर नालंदा के प्राचीन खँडहर अब भी मौजूद हैं। नालंदा रेल मार्ग द्वारा जुड़ा तो है, लेकिन राजगीर मुख्य स्टेशन है। स

मगध की पहली राजधानी- राजगीर से कुछ पन्ने और स्वर्ण भंडार का रहस्य (Rajgir, Bihar)

जैसा की पिछले पोस्टों से विदित है की बिहार में पर्यटन की धुरी बोधगया-राजगीर-नालंदा के इर्द गिर्द ही घूमती है। राजगीर का प्राचीन नाम राजगृह था जो कभी मगध की राजधानी हुआ करती थी, लेकिन बाद में मौर्य शासक अजातशत्रु द्वारा मगध की राजधानी पाटलिपुत्र या आधुनिक पटना स्थानांतरित किया गया। हालाँकि, किस मौर्य शासक ने पाटलिपुत्र को राजधानी बनाया, इसमें जरा संशय बरकरार है। साथ ही बौद्ध और जैन धर्म से सम्बंधित ऐतिहासिक स्मारक भी राजगीर का महत्व बढ़ा देते हैं। विश्व शांति स्तूप                           गया से लगभग सत्तर किलोमीटर दूर नालंदा जिले में चारों और से हरी-भरी पहाड़ियों से  बोध गया: एक एतिहासिक विरासत (Bodh Gaya, Bihar) दशरथ मांझी: पर्वत से भी ऊँचे एक पुरुष की कहानी (Dashrath Manjhi: The Mountain Man) मगध की पहली राजधानी- राजगीर से कुछ पन्ने और स्वर्ण भंडार का रहस्य (Rajgir, Bihar) नालंदा विश्वविद्यालय के भग्नावशेष: एक स्वर्णिम अतीत (Ruins of Nalanda University) कुम्भरार: पाटलिपुत्र के भग्नावशेष (Kumbhrar: The Ruins of Patliputra) घिरा राजगीर एक छोटा सा शहर है। अक्सर इ