ECR and non-ECR Passports: The difference and conversion from ECR to non-ECR

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

ECR और non-ECR पासपोर्ट क्या है?

दोस्तों आपने ECR और non ECR passports के बारे सुना होगा। ECR passport वैसे लोगों को जारी किये जाते हैं जो कम पढ़े लिखे, अनपढ़ या मेट्रिक पास नहीं होते है, जबकि जो लोग कम से कम मेट्रिक पास होते हैं, सरकार उन्हें non ECR passport ही जारी करती है। परन्तु जिनके पास ECR पासपोर्ट होता है, वे हमेशा यह ग़लतफहमी में रहते हैं की वे कभी विदेश जा ही नहीं पाएंगे या फिर उनको विदेश जाने में काफी परेशानियां होंगी। तो चलिए बात करते हैं की आखिर सरकार ने ऐसे अलग अलग नियम आखिर क्यों बनाये हैं?

Why ECR Passport ?

ECR का मतलब होता है Emigration Check Required और non ECR या ECNR का मतलब होता है Emigration Check Not Required. इसका मतलब यह हुआ की ECR पासपोर्ट वालों को कुछ extra करना पड़ेगा। दरअसल ECR पासपोर्ट वाले जब किसी job या नौकरी के लिए विदेश जाना चाहते हैं तो उन्हें भारत के POE office यानि Protector of Emigrants office से एक extra clearance लेनी पड़ती है।

Also Read:  6 दिनों का थाईलैंड ट्रिप बजट (Thailand Budget)

How to identify ECR Passport?

ECR Passport को पहचानने के लिए अपने पासपोर्ट के अंतिम पेज पर देखें, अगर वहां Emigration Check Required लिखा हुआ है, इसका मतलब आपका पासपोर्ट ECR है, अगर कुछ नहीं लिखा मतलब non -ECR पासपोर्ट है। पहले के पुराने पासपोर्ट में ECR Stamp होता था लेकिन आजकल ऐसा नहीं है।

Why POE Clearance?

क्योंकि कम पढ़े लिखे होने के कारण कुछ कम्पनियाँ या एजेंट्स उन्हें किसी जालसाजी का शिकार बना सकती हैं। आपने सुना होगा की कुछ लोग विदेश में नौकरी के चक्कर में वहां जाकर फंस जाते हैं, उनके पासपोर्ट छीन लिए जाते हैं, वापस भारत आने में उन्हें काफी पापड़ बेलना पड़ता है। तो कम पढ़े लिखे लोगों के साथ ऐसी घटनाएं ज्यादा होती हैं इसलिए उन्हें सुरक्षा देने के लिए सरकार ने POE Clearance का नियम बनाया है।

लेकिन ऐसा नहीं है की दुनिया में कहीं भी नौकरी के लिए जाने से पहले ECR पासपोर्ट वालों को POE Clearance लेना पड़ेगा, बल्कि सिर्फ 18 देश ही ऐसे हैं जहाँ नौकरी करने के लिए POE Clearance लेना पड़ता है और वो अठारह देश हैं: अफगानिस्तान, बहरीन, इंडोनेशिया, इराक, जॉर्डन, सऊदी अरब, कुवैत, लेबनान, लीबिया, मलेशिया, ओमान, कतर, दक्षिण सूडान, सूडान, सीरिया, थाईलैंड, संयुक्त अरब अमीरात और यमन।

Also Read:  My first couchsurfing experience in Varanasi

POE Clearance लेने के लिए बस मामूली सी दो-तीन सौर रूपये की फीस देनी पड़ती हैं, लेकिन आपको पहले कोई जॉब ऑफर मिलना चाहिए। इस लिंक पर जाकर भारत के सारे POE Offices के address जान सकते हैं: https://boi.gov.in/content/poe-offices-india

How to convert ECR Passport to Non-ECR Passport?

अब आपके मन में जरूर ये ख्याल भी आता होगा की मेरे पास अगर ECR पासपोर्ट है तो मैं इसे non-ECR में कैसे बदलूँ? तो ECR से non-ECR में बदलने के पांच तरीके हैं:

1. Filing Income Tax Return:

अगर आपके पास ECR पासपोर्ट ही है लेकिन अगर आप income tax return file करते हैं तो आप non ECR पासपोर्ट के लिए apply कर सकते हैं।

Also Read:  क्यों बनें घुमक्कड़? (Why To Be A Traveller)

2. If Dependent of Govt Servant:

अगर आपके माता-पिता या अभिभावक किसी सरकारी नौकरी में हैं तो आप भले ही मेट्रिक पास न किये हों फिर भी non ECR पासपोर्ट ले सकते हैं।

3. After Passing 10th:

अगर दसवीं पास न करने के कारण आपके पास ECR पासपोर्ट है तो दसवीं पास करने के बाद आप non ECR पासपोर्ट का आवेदन कर सकते हैं।

4. After attaining 50 years age:

अगर आपकी उम्र पचास साल हो जाती है तो खुद ब खुद आप non ECR पासपोर्ट के लिए योग्य हो जाते हैं,कुछ करने की जरुरत नहीं पड़ती।

5. If worked and lived continuously 3 years abroad:

अगर आप लगातार तीन वर्षों तक विदेश में रहकर काम कर लेते हैं तो भी आप non ECR पासपोर्ट के लिए आवेदन कर सकते हैं। आप यह वीडियो भी देख सकते हैं:

Like Facebook Page: facebook.com/travelwithrd

Follow on Twitter: twitter.com/travelwithrd

Subscribe to my YouTube channel: YouTube.com/TravelWithRD.

email me at: travelwithrd@gmail.com