दिल्ली की दहलीज पर पहला कदम: (First Step in Delhi)

कहते हैं दिल्ली तो दिल वालों की है, लेकिन यह देश का वो  दिल है जहाँ की धड़कन ने सदियों से इस देश के इतिहास को गुंजयमान बनाया है। यह भारतबर्ष के अतीत का वो दस्तूर है जिसके बारे जितना लिखा जाय, कम  है।  फतेहपुर सिकरी: जिसे अकबर ने बसाया फुरसत से (Fatehpur Sikri: First

फतेहपुर सिकरी: जिसे अकबर ने बसाया फुरसत से (Fatehpur Sikri: First Planned City of Mugals)

आगरा यात्रा के दूसरे चरण में मैं आपको ले जाऊंगा एक ऐसी जगह जो आगरा से मात्र ३७ किमी पर ही स्थित है। देखने तो हम सिर्फ ताजमहल आये थे पर जिनलोगों ने इसे बनाया था उनका भी अतीत जानने के लिए यहाँ आना नितांत आवश्यक है। इसीलिए सूरज की झुलसाती तपिश की परवाह न

चिल्का में चिलकारी: जब झील गया समंदर में मिल (Chilka Lake)

बहुत से पर्यटक पुरी आते हैं पर चिल्का नहीं आकर यहाँ के रोमांच से वंचित रह जाते हैं। मेरा मन तो पुरी जाने से पहले ही चिल्का की गहराई में डुबकी लगा रहा था। पुरी के मंदिरों में घूमने के बाद हमारा अगला पड़ाव था झीलो की रानी चिल्का में। पुरी, कोणार्क और भुबनेश्वर की

गोवा के कड़वे अनुभव (Shock at Vagatore Beach, Goa )

यूँ तो गोवा एक बहुत ही मौज मस्ती वाला जगह है, फिर भी जहाँ ज्यादा मस्ती होती है, वहां कुछ न कुछ काण्ड होने की सम्भावना भी बढ़ जाती है। गोवा में भी हमारे साथ ऐसा ही कुछ हुआ, जिसने पहले ही दिन सारा मजा ख़राब कर दिया।  इसी सन्दर्भ में आज आपसे मैं  गोवा

पुरी के समुद्री आहार (Puri Sea Food)

मेरी राय में इस दुनिया में मजा सिर्फ दो ही चीजो में है एक घूमना और दूसरा खाना। तो क्यों ना हम घूमने के साथ साथ खाने पे भी चर्चा करे। क्या आप इस चित्र को गौर से देख रहे हैं? अगर आप मछली खाने के शौकीन हैं तो विभिन्न प्रकार की समुद्री मछलियाँ आपको

झुलसाती धुप में ताजमहल का दीदार (Tajmahal, Agra)

पिछले हफ्ते मैंने मुम्बई एवं गोवा की यात्रा की। गोवा में जब मैं अपने दोस्तों के साथ घूम रहा था तब काफी तेज धुप से सबके चेहरे काले पड़ गए। इसी झुलसाने वाली धुप से मुझे अपनी आगरा यात्रा की याद आ गयी करीब साढ़े तीन साल पहले की। तो बात है  मई 2012 की।