28 जुलाई 2016: मिशन लद्दाख का सांतवा दिन। रेंचो स्कूल में लगभग एक घंटे रुकने के बाद सुबह दस बजे के करीब हम फिर से निकल पड़े  पेंगोंग की ओर, पेंगोंग की दूरी यहाँ से करीब 135 किमी थी, और आज रात हमें वहीँ बिताना था। पेंगोंग के रास्ते फिर से एक बड़ा ऊँचा दर्रा आने वाला था जिसका नाम